भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के द्वारा भारत की स्वतंत्रता के जल्द ही बाद बाल चित्र समिति, भारत स्थापित की गयी, जिनका बच्चों के प्रति स्नेह प्रसिद्ध है. पंडित नेहरूजी ने सी एफ एस आई की स्थापना इस उम्मीद से की ताकि बच्चों के लिए स्वदेशी एंव विशेष सिनेमा से उनकी रचनात्मकता, करुणा, और महत्वपूर्ण सोच को प्रोत्साहित कर सके.

अध्यक्ष, पंडित हृदय नाथ कुंजरू के साथ सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अधीन सी एफ एस आई ने एक स्वायत्त निकाय के रूप 1955 में कार्य शुरू किया. सी एफ एस आई का पहला ‍निर्माण जलदीप ने 1957 वेनिस फिल्म समारोह में सर्वश्रेष्ठ बच्चों की फिल्म के लिए प्रथम पुरस्कार जीता. तब से सी एफ एस आई ने फीचर फिल्मों, शॉर्ट्स, एनिमेशन से टीवी एपिसोड और वृत्तचित्रों द्वारा बच्चों के लिए निर्माण, प्रदर्शन और गुणवत्ता सामग्री वितरित जारी रखा है.

कई वर्षों से भारतीय सिनेमा के कुछ प्रतिभाशाली, जैसे – मृणाल सेन, सत्येन बोस, तपन सिन्हा, के अब्बास, श्याम बेनेगल, एमएस सथ्यू, सई परांजपे, बुद्धदेब दासगुप्ता, संतोष सिवन, राम मोहन, रितुपर्णो घोष और पंकज अडवाणी ने हमारे फिल्मों का निर्देशन किया है. उन्हे कई अन्य नए कल्पनाशील फिल्म निर्माताओं जुड़े है, जिन्होने देश में सबसे आनंदमय बच्चों की सामग्री का निर्माण किया है.

सी एफ एस आई ऐसी फिल्मों को बढ़ावा देता है जों बच्चों का स्वस्थ और सर्वांगीण मनोरंजन प्रदान करकॆ उनका दृष्टिकोण व्यापक और दुनिया की चारों ओर सॆ प्रतिबिंबित करने में प्रोत्साहित कर सके. 10 अलग भाषाओं में, 250 फिल्मों की स्पृहणीय सूची के साथ, सी एफ एस आई दक्षिण एशिया में बच्चों की फिल्मों का मुख्य निर्माता रहा है.

हम देश भर में फिल्म प्रदर्शन का भी आयोजन करते है, जहां सालाना लगभग चालीस लाख बच्चे लाभ उठातॆ है.
भारत में बच्चों कॆ फिल्मों के आंदोलन को मजबूत बनाने के लिए और दुनिया भर में भारतीय निर्मित बच्चों कॆ फिल्मों को बढ़ावा देने के लिए सी एफ एस आई प्रतिबद्ध है।

Stay Updated

youtubefacebook